Dr.Hedgewar, RSS and Freedom Struggle - 3

Narender Sehgel
Academics of Medicine and Training of Revolution:

Keshavrao Hedgewar was sent by the then nationalist leaders, especially Lokmanya Tilak, to Calcutta to prepare the foundational base for an organized armed revolution in India to liberate India from the cruel claws of British imperialism. Keshavrao, influenced by Tilak's cultural nationalist ideology, while being active in Nagpur, joined the "Anushilan Samiti", a revolutionary party of Bengal. Keshavrao had helped many revolutionaries from Bengal to operate secretively and continue the revolutionary activities in Nagpur. One of the major objectives behind him staying in Calcutta was also to link the secret revolutionary movement of Maharashtra to Bengal's biggest revolutionary organization.

In 1910, Keshavrao left for Calcutta. He had nothing more than the bona fides given by Dr. Munje. With the help of the influence, network and stature of Dr. Munje, Keshavrao got admission in the National Medical College in Calcutta. The administration & professors of the college were also filled with national views. Most of the people used to secretly participate in the movements of Swadeshi / Swarajya, organized by Lokmanya Tilak and Bipin Chandra Pal. The main objective of Keshavrao’s coming to Calcutta was to get training of the Armed Revolution and start a great revolution like 1857 war, against the British in the whole country. While continuing his studies of the Medicine, Keshavrao Hedgewar has not for a second, lost sight of the objective to keep the torch of armed revolution in the hands of youth.

Keshavrao Hedgewar was known for his ability to make friends with all who came in contact and convince them to take part in the work of Anushilan Samiti. Students from across the country, almost from every region of the country come to study in the National Medical College. Through them, Keshavrao soon realized the readiness of the Indian youth to be prepared for the great revolution coming in the country and he succeeded in it. Keshavrao also established closer association with nationalist / Hindutva leaders like Dr. Shayam Prasad Mookerjee's father, Motilal Ghosh, Vipin Chandra Pal and Rasbihari Bose.

Due to his combative nature, constant hard work and folk instinct, Keshavrao soon became the main link of revolutionary activities in other provinces. Secret factories of arms were operating successfully in many places in Bengal. The revolutionaries across the country used to get the supply of ammunition from here. Keshavrao Hedgewar executed this task as well, very vigilantly. Especially, it was the result of Keshavrao's hard work that the weapons were sent to the revolutionaries in Central Provinces. The then government documents of the central province have also acknowledged that Hedgewar achieved a breakthrough in bringing together the revolutionaries of Nagpur and Bengal. In addition to his actively participating & successfully executing the revolutionary activities of Anushilan Samiti, Keshavrao also participated in the movements and social reform activities organized by other institutions. He had two objectives to participate in these movements and service activities. First, to strengthen the efforts for the independence of the country, second, to make contacts with the youth and join them with him. Because of which, a huge group of revolutionary patriots was formed.

Having declared Keshavrao Hedgewar as a successful revolutionary, the intelligence officers of the government sent long-standing reports against him to the government, but the intelligence department could never succeed in presenting a solid evidence for the activities of this very cautious young nationalist. The activities were revealed only after successfully executing them. Even after putting exhaustive efforts, they could never manage to catch hold of the information about the revolutionary activities like the place, leaders, modes and helpers. Very versatile, Keshavrao Hedgewar successfully executed three major tasks while staying in Calcutta. Depending solely on his own research & study, the lessons taught by professors or the practical knowledge gained through the experiments conducted in the laboratory, he continued to each year with First Class. As soon as he steps out of the class, he used to dedicate his time entirely to achieve, what he believed as the real purpose. As a prominent member of the ‘Anushilan Samiti’, he executed the tasks he was given with full commitment. The making of weapons, their distribution, planning and execution of the action, hiding the revolutionaries in secret place, doing all these while keeping himself out of the eyes of the government intel departments, these were the precarious activities he used to involve in once he steps out of the classroom. During the same days, the Department of Intelligence appointed a young man to take stock of Keshavrao's activities. It was also arranged that the spy would stay along with Keshavrao and his friends in the same hostel. Keshavrao, with his acute thinking identified the motivations of this spy and one day in his absence, he took out all the secret paper from his box, exposed him and alerted his colleagues. This way, Keshavrao started spying on the spy.

In addition to his academic study and his contribution in the activities of ‘Anushilan Samiti’, he also actively participated in other social service activities. In 1913, the severe flood that struck the Damodar River had caused great destruction. Many houses were collapsed in the flood. People's businesses have been destroyed. Many social service organizations started working to save people from the flood and bring them out to safer places. The young saints and devotees of the Ramakrishna Mission were on the forefront in support the relief work. Keshavrao, along with his friends started to lend his hand in the relief work. These youths, putting their lives in jeopardy, went to such a place and rescued the people, where no one else could even dare to go. The members of Keshavrao's group used to distribute food in remote villages by travelling in water and mud for miles. These young revolutionaries have been busy in the service day in and day out, despite them being starved & tired. Similarly, on the spread of cholera disease in a city near Calcutta, Keshavrao's group also carried out the sacred work of serving those patients.

Keshavrao Hedgewar, having worked so actively in the ‘Anushilan Samiti’, the largest active revolutionary organization of Calcutta, understood the main objective of this organization very clearly. Division of labor among various committees / sub-committees and the art of successfully executing the tasks without creating any spectacles, etc. experiences laid the foundation stone for Keshav Rao’s life ahead. Having worked in the ‘Anushilan Samiti’, taking part in the revolutionary activities, Keshavrao built a huge network of patriotic youth of many provinces of the country. Keshavrao's always was vigilant about any armed movement for the independence of the country.

Having lived for five years in Calcutta, Dr. Hedgewar recognized the pulse of the country through the ‘Anushilan Samiti’. Dr. Keshavrao Hedgewar returned to Nagpur in 1915 with a complete training of nation-devoted life, undeterred resolve for the complete independence of Bharat, the need for an organized nationalist power, indelible character for social service, and a medical degree.

Although it is true that all the other virtues, except the medical degree had been existing in him ever since he was a child, the 5 years in Calcutta have played a significant role in solidifying his determination for the rest of life on the ultimate goal of complete independence of the Akhanda Bharat (unified India). This is why, after coming back to Nagpur, he did not sleep for a day in peace. All the paths that lead to the ongoing efforts to free the country from the slavery of the British, were open to him. But Doctor ji was looking for a strong path that would directly lead to the neck of the ‘British Imperialism’.

भारत को ब्रिटिश साम्राज्यवाद के क्रूर पंजे से मुक्त करवाने के लिए समस्त भारत में एक संगठित सशस्त्र क्रांति का आधार तैयार करने हेतु केशवराव हेडगेवार को तत्कालीन राष्ट्रवादी नेताओं विशेषतया लोकमान्य तिलक ने कलकत्ता भेजा था। तिलक की सांस्कृतिक राष्ट्रवादी विचारधारा से प्रभावित केशवराव नागपुर में सक्रिय रहते हुए बंगाल के क्रांतिकारी दल ‘‘अनुशीलन समिति’’ से भी जुड़ गए थे। केशवराव ने बंगाल के कई क्रांतिकारियों को नागपुर में गुप्त रूप से रहने और उग्र गतिविधियों को संचालित करने में सहयोग दिया था। कलकत्ता में जाकर रहने के पीछे एक बड़ा उद्देश्य यह भी था कि महाराष्ट्र के गुप्त क्रांतिकारी आंदोलन को बंगाल की सबसे बड़ी क्रांतिकारी संस्था से जोड़ दिया जाए।
1910 में केशवराव ने कलकत्ता के लिए प्रस्थान किया। इनके पास डॉक्टर मुंजे द्वारा दिए गए परिचय पत्र के अलावा और कुछ भी नहीं था। डॉक्टर मुंजे के प्रभावपरिचय और प्रखर व्यक्तित्व के कारण केशवराव को कलकत्ता के नेशनल मेडिकल कॉलेज में प्रवेश मिल गया। इस कॉलेज के प्रबंधक तथा प्राध्यापक भी राष्ट्रीय विचारों से ओतप्रोत थे। प्रायः अधिकांश लोग लोकमान्य तिलक एवं विपिनचंद्र पाल द्वारा संचालित होने वाले स्वदेशी/स्वराज्य के आंदोलनों में गुप्त रूप से भागीदारी भी करते थे। केशवराव के कालकत्ता में आने का मुख्य उद्देश्य सशस्त्र क्रांति का प्रशिक्षण लेना और पूरे देश में अंग्रेजों के विरुद्ध 1857 जैसी महाक्रांति का आगाज करना था। डॉक्टरी की अपनी पढ़ाई के साथ-साथ केशवराव हेडगेवार ने युवाओं के हाथों में सशस्त्र क्रांति की मशाल थमाने के उद्देश्य को क्षणभर के लिए भी आंखों से ओझल नहीं किया।
केशवराव हेडगेवार की एक खास पहचान यह थी कि वह संपर्क में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को मित्र बनाकर उसे अनुशीलन समिति के कार्य में लगा लेते थे। नेशनल मेडिकल कॉलेज में देश के प्रायः प्रत्येक प्रांत के विद्यार्थी अध्ययन के लिए आते थे। केशवराव ने उन सबके माध्यम से शीघ्र ही देशभर में भविष्य के महाविप्लव के लिए युवाओं को तैयार करने की तत्परता दिखाई और सफलता भी प्राप्त की। डॉक्टर श्यामाप्रसाद मुकर्जी के पिता डॉक्टर आशुतोष मुकर्जीमोतीलाल घोषविपिनचंद्र पाल तथा रासबिहारी बोस जैसे राष्ट्रवादी/हिन्दुत्वनिस्ठ नेताओं के साथ भी केशवराव ने घनिष्ट संपर्क स्थापित कर लिया।
अपने जुझारू स्वभावनिरंतर परिश्रम तथा लोकसंग्रही वृत्ति होने के कारण केशवराव शीघ्र ही अन्य प्रांतों में चल रही क्रांतिकारी गतिविधियों की मुख्य कड़ी बन गए। बंगाल के कई स्थानों पर हथियारों की गुप्त फैक्ट्रियां सफलतापूर्वक चल रही थीं। यहीं से देशभर के क्रांतिकारियों को हथियारों की सप्लाई होती थी। केशवराव हेडगेवार ने इस कार्य को भी बहुत सतर्कता के साथ निभाया। विशेषतया मध्य प्रांत में क्रांतिकारियों तक हथियारों को पहुंचाना केशवराव की मेहनत का ही प्रतिफल था। मध्य प्रांत के तत्कालीन सरकारी दस्तावेजों में भी स्वीकार किया गया है कि हेडगेवार ने नागपुर और बंगाल के क्रांतिकारियों के बीच तालमेल बनाने में एक बड़ी सफलता प्राप्त कर ली। अनुशीलन समिति द्वारा संचालित क्रांतिकारी क्रियाकलापों को सफलतापूर्वक अंजाम देने के कार्य के साथ केशवराव अन्य संस्थाओं द्वारा संचालित आंदोलनों और समाज सुधार के कार्यक्रमों में भी भाग लेते रहते थे। इन आंदोलनों तथा सेवा-प्रकल्पों में भाग लेने के उनके दो उद्देश्य होते थे। प्रथम- देश की स्वतंत्रता के लिए हो रहे प्रत्येक प्रयास को बल प्रदान करनाद्वितीय- युवकों के साथ सम्बन्ध बनाकर उनको अपने साथ जोड़ लेना। परिणामस्वरूप क्रांतिकारी देशभक्तों की एक लम्बी श्रंखला तैयार हो गई।
सरकारी गुप्तचर विभाग के अधिकारियों ने केशवराव हेडगेवार को एक सफल क्रांतिकारी बताते हुए इनके खिलाफ लम्बी-लम्बी रपटें सरकार के पास भेजीं परन्तु इस अति सतर्क युवा राष्ट्रभक्त के क्रियाकलापों के ठोस सबूत जुटा पाने में गुप्तचर विभाग को कभी सफलता नहीं मिली। काम हो जाने के बाद ही काम का पता चलता था। लाख सर पटकने के बाद भी क्रांतिकारी गतिविधियों के स्थाननेतातौर तरीकों और मददगारों की जानकारी कुछ भी हाथ नहीं लगता था। अनेक गुणसम्पन्न केशवराव हेडगेवार ने कलकत्ता में रहते हुए तीन प्रमुख कार्य सफलतापूर्वक सम्पन्न कर लिए। डॉक्टरी का अपना अध्ययनकक्षा के अध्यापकों द्वारा पढ़ाया गया पाठ अथवा प्रयोगशाला में करवाए गए प्रयोगों पर ही निर्भर रहते हुए वह प्रत्येक वर्ष प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होते रहे। कक्षा के बाहर आकर तो वह अपने वास्तविक उद्देश्य की पूर्ति के लिए ही जुटे रहते थे। अनुशीलन समिति के एक प्रमुख सदस्य के नाते उन्हें जो काम दिया गया उसे उन्होंने पूरी ताकत के साथ सम्पन्न कर दिया। शस्त्रों की तैयारीउनका वितरणऐक्शन की योजना और कार्यान्वयनक्रांतिकारियों को गुप्त स्थान पर रखना और गुप्तचर विभाग की नजरों से भी बचा रहना आदि जोखिम भरे काम वह कक्षा के बाहर आकर करने लगे। इन्हीं दिनों गुप्तचर विभाग ने एक युवा को केशवराव की गतिविधियों का जायजा लेने के लिए नियुक्त किया। इसे केशवराव और उनके साथियों के साथ ही छात्रावास में रहने की व्यवस्था भी कर दी गई। केशवराव ने अपनी पैनी दृष्टि से इस गुप्तचर की हलचलों को पहचान लिया और एक दिन उसकी अनुपस्थिति में उसके बक्से में से सभी गुप्त कागज निकालकर उसकी पोलपट्टी खोली और अपने साथियों को सतर्क कर दिया। इस तरह केशवराव ने उस गुप्तचर की ही गुप्तचरी करनी शुरु कर दी।
अपने अध्ययन कार्य और अनुशीलन समिति के कामों के अतिरिक्त भी समाज सेवा के अन्य-अन्य कार्यों में भी वे सक्रियता से भाग लेते थे। सन् 1913 में दामोदर नदी में आई भयंकर बाढ़ ने बहुत तबाही मचाई थी। कई घर बाढ़ में नष्ट हो गए। लोगों के कारोबार चौपट हो गए। अनेक सामाजिक संस्थाएं लोगों को बाढ़ से निकालने तथा उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के काम करने लगी। रामकृष्ण मिशन के युवा सन्यासियों एवं भक्तों ने सबसे आगे रहकर सहायता कार्य को सम्भाला। केशवराव हेडगेवार ने अपने साथियों के साथ सेवा कार्य में हाथ बटाना शुरु किया। इन युवाओं ने अपने प्राणों को संकट में डालकर ऐसी जगह पर जाकर लोगों को सुरक्षित निकाला जहां कोई जाने की हिम्मत भी नहीं करता था। केशवराव की टोली के सदस्य पानी और कीचड़ में मीलों चलकर दूरदराज के गांवों तक पहुंचकर खाद्य सामग्री का वितरण करते थे। भूखेप्यासे और बिना सोये ये तरुण क्रांतिकारी दिनरात सेवा के कामों में जुटे रहे। इसी तरह कलकत्ता के निकटवर्ती एक शहर में हैजे की बीमारी फैलने पर केशवराव की टोली ने परिश्रमपूर्वक रोगियों की सेवा जैसा पवित्र कार्य भी किया।
केशवराव हेडगेवार ने कलकत्ता में सक्रिय सबसे बड़े क्रांतिकारी संगठन अनुशीलन समिति के भीतर रहकर इस संगठन के काम करने के ढंग और उद्देश्य को बहुत नजदीक से समझ लिया। विभिन्न समितियों/उप समितियों के माध्यम से काम का बंटवारा और काम को गुप्त रूप से सफल करने की विधि इत्यादि अनुभव केशव राव हेडगेवार के भावी जीवन की नींव के पत्थर साबित हुए। अनुशीलन समिति में रहकर क्रांतिकारी गतिविधियों में भाग लेने से केशवराव का देश के कई प्रांतों के युवाओं से सम्बन्ध आ गया। केशवराव की दृष्टि देश की स्वतंत्रता के लिए किसी भावी सशस्त्र आंदोलन पर टिकी रहती थी।
कलकत्ता में पांच वर्ष रहकर डॉक्टर हेडगेवार ने अनुशलीन समिति के माध्यम से देश की धड़कती नब्ज को पहचाना। राष्ट्र-समर्पित विप्लवी जीवन का सम्पूर्ण प्रशिक्षणभारत की सर्वांग स्वतंत्रता के लिए सर्वस्व अपर्ण करने का संकल्पसंगठित राष्ट्रवादी शक्ति की जरूरत का आभाससमाजसेवा के अमिट संस्कारअटल इच्छाशक्ति और डॉक्टरी की डिग्री लेकर 1915 में डॉक्टर केशवराव हेडगेवार नागपुर आ गए।
हालांकि यह सत्य है कि डॉक्टरी की डिग्री को छोड़कर शेष सभी संस्कार बीजरूप में उनके अंतर्मन में बालकाल से ही विराजमान थेतो भी अखंड भारत की सर्वांग स्वतंत्रता के लिए एकमात्र अंतिम लक्ष्य पर आधारित अपने शेष जीवन की दिशा निर्धारित करने में कलकत्ता में 5 वर्ष का अनुभव अति महत्वपूर्ण रहा। इसलिए नागपुर वापस आने के बाद वे एक दिन भी चैन से नहीं सोये। देश को अंग्रेजों की गुलामी से छुड़ाने के लिए हो रहे तत्कालीन प्रयत्नों के सभी रास्ते उनके लिए खुले थे। डॉक्टर साहब किसी ऐसे सुदृढ़ रास्ते की तलाश में थे जो सीधे-सीधे ब्रिटिश साम्राज्यवाद की गर्दन तक पहुंचता हो।

Post a Comment

0 Comments